Janta Now
पत्नी की जलती चिता में कूदा पति,जानिए क्यो
Otherउत्तर प्रदेशक्राइमजिलादेशदेश - दुनियाराज्यहादसा

पत्नी की जलती चिता में कूदा पति,जानिए क्यो

महोबा: देश ओर दुनिया मे अक्सर हर पल कुछ न कुछ घटित होता है । कभी-कभी कुछ घटनाएं ऐसी होती हैं जो हर किसी को हैरान कर देती है। ऐसा ही वाकिया उत्तर प्रदेश के महोबा में देखने को मिला है। हाल ही में जो घटना सामने आई है वह महोबा में बेलाताल थाना अजनर के अकौना गांव की है। दरअसल यहाँ रहने वाले रामरतन ने अपनी 23 वर्षीय पुत्री उमा की शादी साल 2016 में कस्बा जैतपुर निवासी बृजेश कुमृत शरीराहा से की थी। शादी के बाद से ही ससुराल वाले दहेज की मांग को लेकर उससे हाथापाई करते थे। रोज रोज की लड़ाई झगड़े और प्रताड़ना उमा से बर्दाश्त नहीं हुई और उसने इस दुनिया को छोड़ना ही उचित समझा। बीते गुरुवार की रात बेडरूम में उमा का मृत शरीर फर्श पर पड़ा था और गले में दुपट्टे का फंदा कसा होने पर घटना संदिग्ध मानी जा रही है।

मां ने क्या कहा ?

इस मामले में मृतका की मां तेज कुंवर ने बताया कि ‘एक हफ्ते पहले उसकी बेटी से रुपयों की मांग को लेकर हाथापाई की गई थी।उसने दामाद को घर बुलाया और परिवार के लोगों से रुपये एकत्र कर 70 हजार दिए थे। वहीं दूसरी तरफ इस मामले में नायब तहसीलदार कुलपहाड़ पंकज गौतम ने परिवार के लोगों के बयान दर्ज कर और अपनी मौजूदगी में मृत शरीर का पंचनामा कराकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा ।

आपको बता दें कि मृतका का शादीशुदा जीवन से एक तीन वार्ष का पुत्र कामेश है। वहीं इस मामले में देर शाम जब आखिरी संस्कार होने लगा तो इस दौरान पति बृजेश भी चिता में कूद गया। हालाँकि स्थानीय लोगों ने उसे बचा लिया।बताया जा रहा है इस दौरान वह मामूली रूप से झुलस गया है । इस मामले में कोतवाली प्रभारी उमेश कुमार का कहना है कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद मृत्यु के सही कारण साफ हो सकेंगे, अभी इस मामले में कोई शिकायत नहीं मिली है।

Related posts

सभी देयको का भुगतान कोषागार में 31 मार्च को सायं 05 बजे तक अवश्य प्रस्तुत कर दें – डीएम

jantanow

श्वेता चौधरी ने किया खामपुर लुहारी का नाम रोशन

Bhupendra Singh Kushwaha

यूनेस्को यूथ ने फेसबुक पर साझा की ग्लोबल यूथ समुदाय के युवाओं की तस्वीरें: देखें

jantanow

सम्मेद शिखर के लिए जैन समाज एकजुट हो : अखिलेश जैन

jantanow

आगरा : दीवाली के दिन हैवानों ने आगरा को किया शर्मसार

Bhupendra Singh Kushwaha

Leave a Comment