Janta Now
गुमनाम शहीदों को पहचान दिलाने के लिए मुख्यमंत्री को लिखा पत्र
बागपत

गुमनाम शहीदों को पहचान दिलाने के लिए मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

बागपत, उत्तर प्रदेश। विवेक जैन।

बागपत : गुमनाम शहीद एवं गुमनाम स्वतंत्रता सेनानी स्मृति न्यास के अध्यक्ष, क्रांतिकारी वंशज व प्रसिद्ध समाजसेवी प्रदीप गुर्जर बली ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मांग की है कि गुमनाम शहीदों और गुमनाम स्वतंत्रता सेनानियों को उनकी पहचान दिलायी जाये। बागपत के जिलाधिकारी डॉ राजकमल यादव के माध्यम से मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सौंपे पत्र में उन्होंने कहा कि देश आजादी की 75वीं वर्षगांठ मना रहा है। इस अवसर पर हमें उन शहीदों को नही भूलना चाहिए जिनका बलिदान ज्ञात शहीदों और स्वतंत्रता सेनानियों से कम नही था, लेकिन उनको आज तक वह मान-सम्मान नही मिला जो उनको मिलना चाहिए था।



 1857 की क्रांति के समय अंग्रेजों ने षड़यंत्र के तहत उस समय के इतिहास को अपने अनुसार मोड़ा और हजारों क्रांतिकारियों की शहादत और स्वतंत्रता सेनानियों के जीवन से जुड़े तथ्यों को उस समय के विभिन्न प्रकार के दस्तावेजों जैसे अखबारों, किताबों आदि पर नही आने दिया और ऐसे महान क्रांतिकारी लोक गाथाओं, दादा-दादी, नाना-नानी की कहानियों तक सिमट कर रह गये। प्रदीप बली ने मांग की कि सन 1857 की क्रांति से जुड़े सही तथ्यों से जनता को अवगत कराया जाये व गुमनाम शहीदों और गुमनाम स्वतंत्रता सेनानियों के लिए एक स्मारक बनाया जाये जो देश के सभी गुमनाम शहीदों और गुमनाम स्वतंत्रता सेनानियों को समर्पित हो।




गुमनाम शहीदों को पहचान दिलाने के लिए मुख्यमंत्री को लिखा पत्र

साथ ही साथ उन्होंने मांग की कि जिन गुमनाम क्रांतिकारियों व शहीदों के बारे में जानकारी उपलब्ध है और उनको पहचान नही मिली है उनके नाम सरकारी दस्तावेजों पर लाये जाये, उनके नाम पर विभिन्न सड़कों, ईमारतों के नाम रखें जाये, सार्वजनिक स्थानों पर उनकी मूर्तियां स्थापित की जाये और हर जनपद के क्षेत्र में रहने वाले शहीदों के बारे में उस जनपद के स्कूलों में पढ़ाया जाये जिससे आने वाली पीढियां उन महान शहीदों और क्रांतिकारियों के जीवन से प्रेरणा ले सके। प्रदीप गुर्जर बली ने मांग की कि ऐसे महान क्रांतिकारियों के वंशजों को सम्मानित किया जाये।



प्रदीप गुर्जर बली ने बताया कि हमारे स्मृति न्यास द्वारा आगामी 28 दिसम्बर को अमर शहीदों व स्वतंत्रता सेनानियों के परिजनो, पूर्व सैनिकों, प्रबुद्ध हस्तियों व समाजसेवियों के सानिध्य में बिलखते बलिदान सिसकते योगदान, हम और हमारी भूमिकायें नामक संवाद गोष्ठी का विधिवत शुभारंभ बड़ौत के डाक बंगले से किया जायेगा। साथ ही साथ मेरा जनपद मेरा देश व जंग ए जंगी जनपद बागपत की शुरूआत की जायेगी। जिलाधिकारी बागपत को पत्र सौंपने वालो में न्यास के अध्यक्ष प्रदीप गुर्जर बली, पंचायती वीड़ियो प्रोग्राम के लेखक इकबाल कवि, जांबाज नीरा स्मृति अभियान के सचिव मनोज जैन खेकड़ा आदि उपस्थित थे।



Related posts

चमत्कारी बाबा मोहनराम धाम बागपत में हुआ होली महोत्सव का आयोजन 

Bhupendra Singh Kushwaha

यूपी के 20 वर्षीय नौजवान को ऑस्ट्रेलिया की यूनिवर्सिटी ने दी डॉक्टरेट की उपाधि, वजह जानकर रह जायेंगे हैरान

jantanow

ईश्वरीय विश्वविद्यालय बागपत में महिलाओं को किया गया सम्मानित

jantanow

बड़ौत में हुआ पश्चिम उत्तर प्रदेश का सबसे बड़ा लग्न सगाई समारोह

jantanow

लाल बहादुर शास्त्री जैसी शख्सियत कभी-कभार ही जन्म लेती है – अजय चौहान

jantanow

छपरौली में धूमधाम से मनाया गया रत्न वृष्टि महामहोत्सव

jantanow

Leave a Comment