Janta Now
Agricultureकृषिजिलादेशदेश - दुनियाबस्ती

फसल अवशेष को मिट्टी की उर्वरा शक्ति बढ़ाने में प्रयोग करें जलाएं नहीं

रिपोर्ट,दिलीप कुमार

बस्ती – वर्तमान समय में गेहूं की कटाई चल रही है। कटाई के उपरांत किसान भाई खेतों को खाली करने के लिए फसल अवशेषों को जलाना शुरू कर देते हैं इससे खेत खाली तो हो जाता है परंतु मिट्टी की उर्वरा शक्ति पर दुष्प्रभाव पड़ता है इस पर विस्तृत चर्चा करते हुए कृषि विज्ञान केंद्र के अध्यक्ष प्रो. एस.एन. सिंह ने अवगत कराया कि यदि कटाई के उपरांत फसल अवशेषों को खेत में जलाते हैं तो मिट्टी में मौजूद पोषक तत्व जैसे 100% नाइट्रोजन , 25% फास्फोरस ,20% पोटाश एवं 60% सल्फर का नुकसान होता है तथा लाभदायक सूक्ष्म जीवों का नाश हो जाता है और केंचुआ मकड़ी जैसे मित्र कीटों की संख्या भी कम हो जाती है।

इसके साथ ही मिट्टी की भौतिक संरचना एवं गुणों पर प्रभाव पड़ता है पशुओं के लिए चारे में कमी आती है फसल अवशेषों को जलाने से पर्यावरण प्रदूषण होता है तथा इसका प्रभाव मानव और पशुओं के अलावा मिट्टी के स्वास्थ्य एवं पशुओं के उत्पादन एवं और उत्पादकता पर पड़ता है ।

इसलिए कटाई के बाद में खेत में बचे अवशेषों भूसा, घास फूस,पत्तियों पत्तियों को इकट्ठा करके गहरी जुताई करके जमीन में दवा दें और खेत में पानी भर दें तथा 20 से 25 किलोग्राम यूरिया प्रति हेक्टेयर की दर से छिड़काव कर कल्टीवेटर या रोटावेटर से कार्ड कमेटी में मिला देना चाहिए इस प्रकार अवशेष खेत में विघटित होना प्रारंभ कर देंगे तथा लगभग एक माह में स्वयं सड़कर आगे बोई जाने वाली फसल को पोषक तत्व प्रदान कर देंगे अधिक जानकारी के लिए कृषि विज्ञान केंद्र बंजरिया बस्ती से संपर्क कर सकते हैं।

Related posts

मोनिका यादव राष्ट्रीय लोकदल की बागपत जिला उपाध्यक्ष बनी

Vivek Jain

कोंच में 20 दिनों से लापता मजदूर का शव फंदे पर लटका मिला

jantanow

बिहार का सूर्यांश कुमार 13 वर्ष की उम्र में केसे बना 56 कंपनियों का CEO जानिए

jantanow

लूट के दौरान हत्या मे शामिल एक आरोपी गिरफ्तार :पुलिस मुठभेड़ मे आरोपी के पैर मे लगी गोली 

Bhupendra Singh

पिता की संपत्ति मे बेटी का हक नहीं : सुप्रीम कोर्ट

jantanow

अटल आवासीय विद्यालय में पहले सत्र के समापन के बाद दूसरे सत्र की तैयारी जारी

RamNaresh

Leave a Comment