Janta Now
मृत्यु प्रमाण
उत्तर प्रदेशबस्ती

फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने वाला मुख्य आरोपी सचिव शैलेन्द्र मणि त्रिपाठी लालगंज पुलिस के गिरफ्त से बाहर

रिपोर्ट,दिलीप कुमार

बस्ती ( लालगंज ) – लालगंज थाना क्षेत्र के अन्तर्गत ग्राम पंचायत जगन्नाथपुर में फर्जी मृत्यु प्रमाण पत्र जारी करने का मामला प्रकाश में आया था । जिसमें लक्ष्मेश्वर पाण्डेय पुत्र स्व० राम नारायन पाण्डेय ने आरोप लगाया था कि गांव के शिवशंकर पाण्डेय पुत्र पुरुषोत्तम पाण्डेय उम्र लगभग 48 वर्ष द्वारा मेरे पैतृक चल अचल संपत्ति हड़पना चाहता है तथा गरीब एवं असहाय होने के कारण कुछ जमीन कब्जा भी कर लिया गया है ।

शिव शंकर पाण्डेय व दीपक पाण्डेय पुत्र शिव शंकर द्वारा कूट रचना करते हुए छल पूर्वक अपना नया पहचान शिव शंकर के बजाएं जटा शंकर पुत्र देवी शरन के नाम से आधार कार्ड , निर्वाचन कार्ड , पैन कार्ड , आदि प्रपत्र तैयार करके शिव शंकर की मृत्यु दिनांक – 01-12-2023 को ग्राम भक्तुपर में दिखाते हुए कूट रचित अभिलेख तैयार करके तत्कालीन ग्राम पंचायत भुक्तुपुर सचिव शैलेन्द्र मणि त्रिपाठी के माध्यम से मृत्यु प्रमाण पत्र बनवा लिया गया है । तत्कालीन सचिव अजीत सिंह से मिलकर दिनांक – 27-12-2023 को परिवार रजिस्ट्रर में एक मात्र नया नाम से मकान नंबर से दर्ज करवा लिया गया है । शिव शंकर पाण्डेय के खिलाफ राम नारायन ने लालगंज थाने में NCR मुकदमा पंजीकृत कराया था ।

 

लालगंज पुलिस ने मामले को गंभीरता से नहीं लिया था तब मामले को न्यायालय में याचिका दाखिल किया गया था न्यायालय के आदेश पर कूटरचित कागजात तैयार करने के मामले में उचित धाराओं में मुकदमा दर्ज करने का आदेश दिया था न्यायालय के आदेश पर शिव शंकर पाण्डेय पुत्र पुरुषोत्तम पाण्डेय , दीपक पाण्डेय पुत्र शिव शंकर पाण्डेय , तत्कालीन सचिव शैलेन्द्र मणि त्रिपाठी एवं तत्कालीन सचिव अजीत कुमार सिंह के खिलाफ लालगंज पुलिस ने मु० अ० सं० – 22/2024 धारा 419,420,467,468,471,120 बी के तहत मुकदमा दर्ज किया था । उक्त प्रकरण में आरोपी शिव शंकर पाण्डेय के जाल साजी का साक्ष्य मिलने पर दिनांक – 05-02-2024 को शिव शंकर पाण्डेय को जेल भेजा जा चुका है । सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार दूसरी गिरफ्तारी दिनांक – 22-03-2024 को तत्कालीन सचिव अजीत सिंह की हुई है ।

 

सचिव अजीत सिंह पर परिवार रजिस्ट्रर में नाम दर्ज करने का आरोप है जबकि मुख्य भूमिक तत्कालीन सचिव शैलेन्द्र मणि त्रिपाठी की है I शैलेन्द्र मणि त्रिपाठी यदि मृत्यु प्रमाण पत्र जारी न करते तो सचिव अजीत सिंह परिवार रजिस्ट्रर में नाम दर्ज न करते । इससे स्पष्ट है कि मुख्य आरोपी सचिव शैलेन्द्र मणि त्रिपाठी है जिसको गिरफ्तार करने में लालगंज पुलिस के पसीने छूट रहे हैं और आरोपी सचिव शैलेन्द्र मणि त्रिपाठी खुल्ला घूम रहा है । एक तरफ लालगंज पुलिस सचिव अजीत सिंह की गिरफ्तारी करके वाहवाही लूट रही है वही दूसरी तरफ लालगंज के कारनामों को लेकर जिले में तरह – तरह की चर्चाएं चल रही है ।

Related posts

माँ वैष्णो देवी मंदिर पर रामचरितमानस पाठ के समापन पर विशाल भंडारा हुआ संपन्न

RamNaresh

15 दिन बीतने के बाद भी ग्राम पंचायत सुअरहा में मनरेगा घोटाले की नही हुई जांच – सलाउद्दीन

RamNaresh

साईकिल चलाने से होते है अनेकों फायदे – पंकज गुप्ता

Vivek Jain

विश्व दृष्टि दिवस पर लायंस क्लब बागपत ने लगाया फ्री आई कैंप

Vivek Jain

आगरा:अधिवक्ताओ ने लगाया M.G रोड पर जाम

jantanow

Inspirational: राज्य स्तरीय गंगा सम्मान से विभूषित हुई बागपत की होनहार सुषमा त्यागी

Vedansh (Baghpat)

Leave a Comment