Janta Now
Ajit Singh
देशदेश - दुनियाबागपत

महात्मा बुद्ध एक महान दार्शनिक और समाज सुधारक थे – अजीत सिंह

शिकागो, अमेरिका। विवेक जैन।

विश्वभर में बौद्ध धर्म के संस्थापक, महान दार्शनिक और समाज सुधारक महात्मा बुद्ध की जयंती को बौद्ध धर्म के 200 करोड़ से अधिक अनुयायियों ने बड़े ही धूमधाम और हर्षोल्लास के साथ मनाया। इंड़ियन अमेरिकन बिजनेस कॉंउसिल के चेयरमैन अजीत सिंह ने बताया कि महात्मा बुद्ध का जन्म वैशाख माह की पूर्णिमा को हुआ था, जिस कारण इस दिन को बुद्ध पूर्णिमा भी कहा जाता है।

Ajit Singh
महात्मा बुद्ध की महान शिक्षाओं से प्रभावित होकर विश्व विजयी महान सम्राट अशोक से लेकर विश्वभर के अनेकों राजा-महाराजाओं ने अपनाया बौद्ध धर्म – अजीत सिंह

बताया कि यह दिन इसलिए भी महत्वपूर्ण है कि इसी दिन महात्मा बुद्ध  (mahatma buddha) को ज्ञान की प्राप्ति और महानिर्वाण भी हुआ था और उन्हें बुद्धत्व की प्राप्ति हुई थी। बताया कि महात्मा बुद्ध कपिलवस्तु के राजा शुद्धोदन और महामाया के पुत्र थे। इनका जन्म नेपाल में लुंबिनी में हुआ था। इनका बचपन का नाम सिद्धार्थ था। गौतम गोत्र में जन्म लेने के कारण ये गौतम भी कहलाये। सिद्धार्थ गौतम के जन्म के सात दिनों बाद इनकी माता का निधन हो गया और सिद्धार्थ का पालन उनकी मॉं की छोटी बहन महाप्रजावती गौतमी ने किया। राजकुमार सिद्धार्थ गौतम ने गुरू विश्वामित्र से वेद, उपनिषद, राजकाज, युद्ध विद्या आदि की शिक्षा ग्रहण की। सिद्धार्थ गौतम कुश्ती, घुड़दौड़, तीर-कमान और रथ चलाने में महारथी थे। वह एक वीर योद्धा होने के साथ-साथ दया और करूणा की प्रतिमूर्ति थे। शिक्षा पूर्ण होने पर 29 वर्ष की आयु में सिद्धार्थ गौतम का विवाह राजकुमारी यशोधरा के साथ हुआ।

विश्वभर में बौद्ध धर्म के 200 करोड़ से अधिक अनुयायियों द्वारा बड़े ही धूमधाम और हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है महात्मा बुद्ध का जन्म, ज्ञान और महानिर्वाण महोत्सव – अजीत सिंह  

सिद्धार्थ गौतम को एक पुत्र रत्न की प्राप्ति हुई, जिसका नाम उन्होंने राहुल रखा। अजीत सिंह ने बताया कि सत्य दिव्य ज्ञान की खोज में और जीवन के सच को जानने के लिए राजकुमार सिद्धार्थ ने समस्त सुख-शांति, ऐश्वर्य-वैभव, राज्य और गृहस्थ जीवन का त्याग कर दिया। सात वर्षो तक वन में भटकते रहे। कठोर तप किया और अन्त में बिहार स्थित बोधगया में पीपल वृक्ष के नीचे उन्हें सच्चा बोध हुआ और बुद्धत्व ज्ञान की प्राप्ति हुई इसी पीपल वृक्ष को बोधवृक्ष व बोधिवृक्ष (Bodhi Tree) कहा जाता है और वह राजकुमार सिद्धार्थ गौतम से महात्मा बुद्ध और फिर भगवान बुद्ध हो गये। महात्मा बुद्ध की शिक्षायें इतनी प्रभावशाली थी कि विश्व विजयी महान सम्राट अशोक सहित उस समय के बड़े-बड़े राजा और महाराजा तक उनके शिष्य हो गये।

Related posts

बागपत में धूमधाम के साथ मनाई गई महाराजा अग्रसैन जी की जयंती

jantanow

गृहकलह से परेशान युवक ने खाया विषाक पदार्थ , इलाज के दौरान हुई मौत

jantanow

सर्व कल्याण सेवा संस्था द्वारा किये गए अनेकों समाजसेवा के कार्य

jantanow

IPL से करोड़पति बना कार ड्राइवर, ऐसे जीते 2 करोड़ रुपए

jantanow

लाल बहादुर शास्त्री जैसी शख्सियत कभी-कभार ही जन्म लेती है – अजय चौहान

jantanow

Baghpat News Today :रामलीला देखने के लिए उमड़ी दर्शकों की भारी भीड़

jantanow

Leave a Comment